Friday, September 21, 2018 Home   |   Sign in   |   Contact us   |   Help  
  View Certificate
 
होम राज्य देश संपादकीय युवा खेल फ़िल्मी सितारे वीडियो कैरियर आर्थिक
 

सपा-बसपा ने मिलकर 27 साल से भाजपा के गढ़ गोरखपुर को छीना, फूलपुर में भी हराया

     Last Updated:(11:52 AM) 15 Mar 2018
लखनऊ. गोरखपुर और फूलपुर के लिए आखिरी वक्त पर अनमने ढंग से हुआ सपा-बसपा का गठबंधन काम कर गया। सीएम योगी आदित्यनाथ की गोरखपुर और डिप्टी सीएम केशवप्रसाद मौर्य की पिछली बार जीती फूलपुर लोकसभा सीट इस बार सपा-बसपा ने एक होकर भाजपा से छीन लीं। यह पहला मौका है जब 27 साल से भाजपा के गढ़ गोरखपुर में सपा-बसपा मिलकर जीती है। सबसे पहले फूलपुर के नतीजे आए। यहां सपा के नागेंद्र प्रताप सिंह पटेल जीत गए। वहीं, गोरखपुर में भी सपा के प्रवीण निषाद जीत गए। दोनों सीटों पर पिछली बार से करीब 12% कम वोटिंग हुई थी। हार के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा- "‘ये जनता का फैसला है। हम सभी को इसे मानना चाहिए। अति-आत्मविश्वास और आखिरी समय में सपा-बसपा की राजनीतिक सौदेबाजी के कारण हम हारे।’एक टीवी चैनल से बातचीत में स्वामी ने कहा, 'जो नेता अपनी सीट पर जीत नहीं दिला सकते, ऐसे नेताओं को बड़े पद देना लोकतंत्र में आत्महत्या करने जैसा है। जनता में जो लोकप्रिय हैं, वो किसी पद पर नहीं है। मैं समझता हूं कि इन सब चीजों को ठीक करने के लिए अब भी समय है।'लंबे समय से पार्टी से बागी चल रहे शत्रुघ्न सिन्हा ने ट्वीट कर कहा, 'सर, यूपी-बिहार के उपचुनाव के नतीजों ने आपको और हमारे लोगों को यह संकेत दिया होगा कि सीटबेल्ट बांधनी होगी। आगे कठिन समय है! उम्मीद है कि भविष्य में हम इस संकट से निपट सकेंगे। जितनी जल्दी हम इस समस्या को हल कर सकेंगे बेहतर होगा। ये नतीजे राजनीतिक भविष्य के बारे में भी बताते हैं, इसे हल्के में नहीं लिया जा सकता।' यही नहीं उन्होंने अखिलेश, मायावती और तेजस्वी यादव को बधाई भी दी। एक और ट्वीट में सिन्हा ने कहा, 'मैं लगातार कहता रहा हूं कि अहंकार, गुस्सा और अतिआत्मविश्वास लोकतांत्रिक राजनीति में सबसे बड़े दुश्मन हैं। यह बात ट्रंप, मित्रों और विपक्षी नेताओं समेत सब पर लागू है।रमाकांत यादव ने सीएम योगी आदित्यनाथ पर अटैक करते हुए कहा, 'प्रदेश में सीएम बना तो लगा कि अब सबकी चिंता की जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।' पूर्वांचल में यादव वोटरों पर मजबूत पकड़ रखने वाले रमाकांत ने कहा, 'पिछड़ों और दलितों को हक न दिए जाने के चलते ऐसा हुआ है। विशेष जाति को लेकर सरकार का कड़ा रुख दिखा। पिछड़े और दलितों के साथ जो किया जा रहा है, उसका परिणाम 2019 में दिखाई देगा। यदि सभी को लेकर चलेंगे तो इसकी भरपाई की जा सकेगी।
  टिप्पणी

 

  फोटोगैलरी
 
 
 
होम राज्य देश संपादकीय युवा खेल फ़िल्मी सितारे वीडियो कैरियर आर्थिक Youtube Video Facebook Twitter in.com