Wednesday, November 21, 2018 Home   |   Sign in   |   Contact us   |   Help  
  View Certificate
 
होम राज्य देश संपादकीय युवा खेल फ़िल्मी सितारे वीडियो कैरियर आर्थिक
 

यूपी राज्यसभा: भाजपा को नौवीं सीट के लिए 5 वोट की जरूरत, पार्टी के समर्थन में 2 विधायकों ने की क्रॉस वोटिंग

     Last Updated:(12:05 PM) 23 Mar 2018
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की 10 राज्यसभा में से एक सीट का चुनाव दिलचस्प हो गया है। शुक्रवार को राज्यसभा चुनाव में वोटिंग हो रही है। यूपी से बीजेपी के 8 और सपा का एक कैंडिडेट राज्यसभा जाना तय है। बाकी बची एक सीट के लिए भाजपा के 9वें उम्मीदवार अनिल अग्रवाल और बसपा के इकलौते उम्मीदवार भीमराव अंबेडकर के बीच कड़ी टक्कर है। बीजेपी कैंडिडेट को हराने के लिए सपा-बसपा साथ आ गई हैं। इस बीच नितिन अग्रवाल, बसपा विधायक अनिल सिंह और निषाद पार्टी के विजय मिश्रा ने बीजेपी को वोट दिया है। जीत के लिए बीजेपी को 5 वोट की दरकार है।कुल 10 सीट पर चुनाव हैं। उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटें हैं। राज्यसभा की एक सीट जीतने के लिए किसी भी पार्टी के पास 37 विधायक होने जरूरी हैं। बीजेपी अलायंस के पास 324 सीट हैं। 8 सदस्यों को राज्यसभा पहुंचाने के बाद 28 विधायक बचते हैं। ऐसे में एक और सदस्य को अपर हाउस भेजने के लिए 9 विधायक का समर्थन चाहिए।नरेश अग्रवाल के बेटे नितिन ने भाजपा को वोट दिया है। निषाद पार्टी के विधायक विजय मिश्रा और बसपा के भी भाजपा को वोट डाला। निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी भी भाजपा के साथ हैं। भाजपा को 9वीं सीट जीतने के लिए अब 5 विधायक चाहिए

 बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के पास 19 विधायक हैं। पार्टी ने भीमराव अंबेडकर को मैदान में उतारा है। जीत के लिए 37 विधायकों का समर्थन चाहिए। उधर, सपा ने बसपा का समर्थन कर रही है। सपा के पास 47 विधायक हैं।  इसके बाद पार्टी के पास 10 विधायक बचते हैं। नरेश अग्रवाल और उनके विधायक बेटे नितिन अग्रवाल बीजेपी में शामिल हो गए हैं। इससे एक वोट कम हो गया है। 
- बीएसपी के मुख्तार अंसारी और हरिओम यादव जेल में हैं। हाईकोर्ट ने उनके राज्यसभा चुनाव में वोट डालने पर बैन लगा दिया है। 
- अब ये स्थिति बन रही है- अंबेडकर को राज्यसभा भेजने के लिए बीएसपी के 17 + सपा के 9+ कांग्रेस के 7+ राष्ट्रीय लोकदल के 1 वोट के सहारे है। इस तरह टोटल 34 विधायक हो रहे हैं। जीत के लिए तीन विधायकों की और जरूरत होगी।यूपी में एक राज्यसभा सदस्य चुनने के लिए 37 मैजिक फिगर है। अगर किसी उम्मीदवार को 37 वोट नहीं मिलते तो दूसरी वरीयता (सेकंड प्रेफरेंस) के आधार पर जीत का फैसला होगा। इसमें सबसे ज्यादा वोट वाले उम्मीदवार को राज्यसभा सदस्य चुन लिया जाएगा।
- राज्यसभा चुनाव में वोटिंग के दौरान हर विधायक अपनी वरीयता तय कर सकता है कि वो पहली, दूसरी, तीसरी वरीयता में किसे मत देगा।गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में बीजेपी को हराने के बाद दोनों पार्टियों के लिए यह चुनाव बेहद अहम हो गया है। वहीं, बीजेपी भी पूरी ताकत लगा रही है। भाजपा से 8: अरुण जेटली (वित्त मंत्री), डॉ. अशोक बाजपेयी, विजयपाल सिंह तोमर, सकलदीप राजभर, कांता कर्दम, डॉ. अनिल जैन, जीवीएल नरसिम्हा राव, हरनाथ सिंह यादव।
- सपा से एक: जया बच्चन

  टिप्पणी

 

  फोटोगैलरी
 
 
 
होम राज्य देश संपादकीय युवा खेल फ़िल्मी सितारे वीडियो कैरियर आर्थिक Youtube Video Facebook Twitter in.com