Friday, July 20, 2018 Home   |   Sign in   |   Contact us   |   Help  
  View Certificate
 
होम राज्य देश संपादकीय युवा खेल फ़िल्मी सितारे वीडियो कैरियर आर्थिक
 

पाकिस्तान के पास ज्यादा परमाणु हथियार लेकिन भारत को नहीं है कोई टेंशन

     Last Updated:(10:58 AM) 19 Jun 2018
परमाणु हथियारों के जखीरे पर स्टॉकहोम इंटरनैशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट की जारी रिपोर्ट में चीन और पाकिस्तान को भारत के मुकाबले संख्याबल में भले ही ज्यादा बताया गया हो पर नई दिल्ली के पास मौजूद परमाणु हथियार काफी सक्षम और किसी को भी जवाब देने के लिए पर्याप्त हैं। रिपोर्ट पर भारतीय रक्षा सूत्रों ने बताया कि संख्या से ज्यादा मारक क्षमता जरूरी है और भारत इस मामले में आगे है।सीपरी के रिपोर्ट के मुताबिक चीन के पास भारत से दोगुना परमाणु हथियार हैं वहीं, पाकिस्तान भी परमाणु जखीरे के मामले में भारत से थोड़ा आगे है। रिपोर्ट के मुताबिक चीन के पास करीब 280 न्यूक्लियर वॉरहेड हैं। पाकिस्तान के पास 140-150 के बीच परमाणु हथियार हैं वहीं, भारत के पास 130-140 परमाणु हथियार हैं।हालांकि संख्याबल में कम होने के बावजूद भारत के परमाणु हथियार किसी को भी जवाब देने में पूरी तरह सक्षम है। भारतीय रक्षा प्रतिष्ठानों के सूत्रों के मुताबिक भारत इन आंकड़ों को लेकर ज्यादा चिंतित नहीं है क्योंकि भारत के पास काफी ताकतवर परमाणु हथियार हैं और किसी प्रकार हमले की स्थिति में काफी मारक है। भारत आगे भी इन हथियारों के आधुनिकीकरण पर काम कर रहा है। भारतीय रक्षा प्रतिष्ठानों के सूत्रों का कहना है कि चीन और पाकिस्तान का सामना करने के लिए भारत के पास ऐसे परमाणु हथियार विकसित करने के अलावा कोई चारा नहीं है जो, न केवल भरोसेमंद हो बल्कि किसी विरोधी के हमले की स्थिति में उसे भारी नुकसान पहुंचाने में भी सक्षम हो। 

एक सूत्र ने बताया, 'हथियारों की संख्या मायने नहीं रखती है। भारत पहले परमाणु हथियार इस्तेमाल नहीं करने की नीति अपना रखा है। भारत अपने हथियारों की विश्वसनीयता पर काम करने का इच्छुक है। NC3 (न्यूक्लियर कमांड, कंट्रोल और कम्यूनिकेशन) के जरिए भारत अपने परमाणु हथियार की मारक क्षमता को लेकर आश्वस्त है।' 

पाकिस्तान भारत को धौंस दिखाने के लिए जानबूझकर अपनी परमाणु नीति को आगे बढ़ा रहा है। इस्लामाबाद चीन की मदद से खुशाब न्यूक्लियर कॉम्प्लेक्स को विकसित कर रहा है। 

सूत्र ने बताया, 'भारत के लिए परमाणु हथियार युद्ध के हथियार नहीं हैं। लेकिन हमें न्यूनतम परमाणु क्षमता की जरूरत है ताकि जवाबी हमले की स्थिति में हम सक्षम रहें।' उन्होंने कहा कि भारत अगले दशक तक करीब 200 परमाणु वॉरहेड बना लेगा। 
  टिप्पणी

 

  फोटोगैलरी
 
 
 
होम राज्य देश संपादकीय युवा खेल फ़िल्मी सितारे वीडियो कैरियर आर्थिक Youtube Video Facebook Twitter in.com