Sunday, October 21, 2018 Home   |   Sign in   |   Contact us   |   Help  
  View Certificate
 
होम राज्य देश संपादकीय युवा खेल फ़िल्मी सितारे वीडियो कैरियर आर्थिक
 

आजमगढ़ में मोदी, विपक्ष के गढ़ से 2019 का ''एक्सप्रेस-वे'' बनाएंगे पीएम

     Last Updated:(11:09 AM) 14 Jul 2018
आजमगढ़ 
2014 की मोदी लहर में जब पूरा पूर्वांचल पक्ष में खड़ा हुआ तो इकलौता आजमगढ़ ही था जो 'विपक्ष' की भूमिका में रहा। शायद यही वजह है कि पीएम मोदी ने शनिवार को नौ जिलों से गुजरने वाले पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के शिलान्यास का पत्थर रखने के लिए विपक्ष के इस गढ़ को चुना। मोदी की निगाह विकास के एक्सप्रेस-वे से 2019 की राह सुगम बनाने पर रहेगी। इसके लिए दो दिनों तक आजमगढ़, वाराणसी से लेकर मीरजापुर तक मोदी मंच से सड़क तक मंथन करते नजर आएंगे। पीएम दोपहर एक बजे बाबतपुर एयरपोर्ट पहुंचेंगे और यहां से सेना के हेलिकॉप्टर से आजमगढ़ जाएंगे।आजमगढ़ में 2014 और 2017 की लगातार नाकामियों के बाद भी मोदी की उम्मीद की दो वजह हैं। पहली यह कि अब एसपी के मार्गदर्शक मंडल में शामिल हो चुके मुलायम सिंह यादव आजमगढ़ से चुनाव न लड़ने की घोषणा कर चुके हैं। दूसरी कि यादव-मुस्लिम बहुल सीट पर 2009 में कमल खिलाने वाले रमाकांत यादव अब भी बीजेपी मुलायम की उपेक्षा के बहाने भी अखिलेश यादव और गठबंधन की कवायद पर निशाना साधने की जमीन बनेगी। इसलिए मोदी जहां आजमगढ़ पर बीजेपी के लिए दावा ठोंकेंगे, वहीं पूर्वांचल की करीब डेढ़ दर्जन सीटों से भी शिलान्यास, लोकार्पण और जनसभाओं तक समीकरण साधने पर भी केंद्रित करेंगे। इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य भी मोदी का मंच पर साथ देंगे। 2019 में उभरते महागठबंधन की काट के लिए भी बीजेपी के पास मास्टरस्ट्रोक के तौर पर नरेंद्र मोदी ही हैं। इस जद्दोजहद में अपना 'घर' न गड़बड़ हो, मोदी को इसकी भी चिंता है। इसलिए अगली परीक्षा के पहले मोदी अपनी सीट पर भी 'होम'वर्क करेंगे। आजमगढ़ में मोदी विपक्ष के सरकार में रहने के दौरान उपेक्षा के चलते उपजी दुश्वारियां गिनाएंगे। उसके कुछ ही घंटों बाद वाराणसी में जनसभा कर अपने वोटरों को अपेक्षाओं और उस पर अपने बढ़ते कदमों का हिसाब देंगे। इस दौरान भी 'उम्मीदों' को और धार देने के लिए करीब 1000 करोड़ रुपये की वाराणसी केंद्रित योजनाओं के शिलान्यास-लोाकर्पण की सौगात होगी। यह बात घर-घर दस्तावेजी तौर पर पहुंचे, इसके लिए चार साल के काम-काज पर किताब भी मोदी वाराणसी को देकर जाएंगे। फ्लाईओवर हादसे के बाद पहली बार अपने संसदीय क्षेत्र में आ रहे मोदी रविवार सुबह सड़कों पर घूमकर वाराणसी के 'बदलाव' को भी आंकेंगे। 
  टिप्पणी

 

  फोटोगैलरी
 
 
 
होम राज्य देश संपादकीय युवा खेल फ़िल्मी सितारे वीडियो कैरियर आर्थिक Youtube Video Facebook Twitter in.com