Sunday, December 6, 2020 Home   |   Sign in   |   Contact us   |   Help  
  View Certificate
 
होम राज्य देश संपादकीय युवा खेल फ़िल्मी सितारे वीडियो कैरियर आर्थिक
 

देश में पहली बार सिर्फ महिलाओं की पार्टी बनी, अगले साल लोकसभा चुनाव भी लड़ेगी

     Last Updated:(12:01 PM) 19 Dec 2018
  • 36 साल की महिला डॉक्टर ने बनाई पार्टी, दावा- 1.5 लाख से ज्यादा महिलाओं का समर्थन
  • पार्टी 2019 लोकसभा चुनाव लड़ेगी और समान विचारधारा वाले दलों से समर्थन भी लेगी
  • संसद में महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण दिलाना पार्टी का मकसद
  • 36 साल की महिला डॉक्टर ने मंगलवार को महिलाओं के लिए देश की पहली राजनीतिक पार्टी बनाई। राष्ट्रीय महिला पार्टी  2019 में लोकसभा चुनाव भी लड़ेगी। पार्टी संसद में महिलाओं को आरक्षण दिलाने और वर्क प्लेस पर उनके खिलाफ हो रहे अत्याचारों को रोकने के लिए काम करेगी।

पुरुष प्रधान राजनीति में देश को महिला पार्टी की जरुरत'

  1.  

    पार्टी की घोषणा करते हुए पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वेता शेट्टी ने कहा, "पुरुष प्रधान राजनीतिक प्रणाली में पूरी तरह से महिलाओं की एक पार्टी का होना बहुत जरुरी है। हमारा उद्देश्य महिलाओं का प्रतिनिधित्व करना है, खासकर उनका जो वंचित हैं।''

     

  2.  

    शेट्टी ने बताया, "महिलाओंं और उनसे जुड़े मुद्दों को सिर्फ मदर्स डे, महिला दिवस और चुनावों के दौरान उठाया जाता है। ये पार्टी महिलाओं के लिए एक मंच है, जहां वे अपनी आवाज उठाएंगी। पार्टी ने 2012 में जमीनी स्तर पर अपना कार्य शुरू किया था। पार्टी को लोकसभा चुनावों में महिला उम्मीदवारों के लिए 50 फीसदी आरक्षण के मकसद के साथ शुरू किया गया है।'' 

     

  3.  

    शेट्टी ने बताया कि उन्होंने चुनाव आयोग में पंजीकरण के लिए आवेदन कर दिया है। उन्होंने दावा किया कि पार्टी के पास हैदराबाद स्थित तेलंगाना महिला समिति की 1.45 लाख महिला सदस्यों का समर्थन है।

     

  4.  

    स्वेता ने कहा- हमारी पार्टी उन सभी महिला अफसरों से जुड़ने के लिए कह रही है, जिन्हें, 2018 में नजरअंदाज किया गया। यह पार्टी देश में महिलाओं की स्थिति में सुधार के लिए एक मंच हो सकती है।

  टिप्पणी

 

  फोटोगैलरी
 
 
 
होम राज्य देश संपादकीय युवा खेल फ़िल्मी सितारे वीडियो कैरियर आर्थिक Youtube Video Facebook Twitter in.com